क्या अमेरिकी वैज्ञानिकों ने 1943 में ही खोज ली थी टेलीपोर्टेशन टेक्नोलॉजी : फिलाडेल्फिया एक्सपेरिमेंट का रहस्य | The Mystery of Philadelphia Experiment (1943) In Hindi

फिलाडेल्फिया एक्सपेरिमेंट का रहस्य

इतिहास में ऐसे अनेक रहस्यमय प्रयोग किये गए हैं, जो की किसी की सोच से भी परे हैं, ये प्रयोग इतने गुप्त और खतरनाक थे की इनके बारे में हर प्रकार की जानकारी बहुत ही गुप्त रखी गयी थी| फिलाडेल्फिया एक्सपेरिमेंट, भी इसी प्रकार रहस्य और साज़िश में डूबा हुआ, नौसैनिक इतिहास में सबसे विचित्र रहस्यों में से एक बना हुआ है। 1943 में, यूएसएस एल्ड्रिज, एक नौसैनिक विध्वंसक पोत, एक गुप्त प्रयोग का केंद्र बन गया।

यूएसएस एल्ड्रिज

यूएसएस एल्ड्रिज, संयुक्त राज्य अमेरिका की नौसेना का एक विध्वंसक जलपोत था। द्वितीय विश्व युद्ध के चरम के दौरान, 27 अगस्त, 1943 को इसे कमीशन किया गया, इसका नाम लेयेट खाड़ी की लड़ाई के नायक लेफ्टिनेंट कमांडर जॉन एल्ड्रिज जूनियर के सम्मान में रखा गया था।

1

चालक दल और मिशन विवरण

जहाज के कर्मीदल में लगभग 220 अधिकारी और अन्य भर्ती किए गए लोग शामिल थे, जो अपने कर्तव्य के लिए समर्पित बेहतरीन नौसैनिक थे। उच्च-तनावपूर्ण स्थितियों में काम करने के लिए प्रशिक्षित, ये लोग यूएसएस एल्ड्रिज की रीढ़ थे, जो अपने कर्तव्यों को सटीकता और अटूट प्रतिबद्धता के साथ निष्पादित करते थे

2

कथित प्रयोग

फिलाडेल्फिया एक्सपेरिमेंट 1943 में अमेरिकी नौसेना द्वारा चलाया गया एक गुप्त ऑपरेशन था, जो बहुत ही गोपनीय और रहस्य में डूबा हुआ था।इसका प्राथमिक उद्देश्य नौसेना के जहाजों को दुश्मन के रडार के लिए अदृश्य बनाने की संभावनाओं का पता लगाना था, यह अवधारणा विद्युत चुम्बकीय युद्ध के उभरते क्षेत्र में निहित है।

3

कथित प्रयोग

यह एक ऐसा रहस्यमयी एक्सपेरिमेंट था जिसका उद्देश्य जल पोत को न केवल दुश्मनों के रडार से बल्कि नंगी आँखों के सामने से भी अदृश्य करना था | जिससे की जहाज दुश्मन की नज़र में आये बिना उसके बिलकुल नजदीक पहुँच कर हमला कर सके|

3

प्रयोग की कार्यप्रणाली

इस प्रक्रिया में जहाज पर शक्तिशाली जनरेटर और विशेष उपकरणों की स्थापना शामिल थी। इन उपकरणों को तीव्र विद्युत चुम्बकीय क्षेत्र उत्पन्न करने के लिए डिज़ाइन किया गया था, जो सैद्धांतिक रूप से जहाज की भौतिक उपस्थिति में विकृति पैदा करता था।

5

आश्चर्यजनक टेलीपोर्टेशन

फिलाडेल्फिया प्रयोग के दौरान जो घटनाएँ सामने आईं, वे वैज्ञानिक जाँच के दायरे को पार कर असाधारण के दायरे में आ गईं। प्रत्यक्षदर्शी लोगो के बयानों और कथित साक्ष्यों के अनुसार, प्रयोग ने एक अप्रत्याशित मोड़ ले लिया, जिससे एक आश्चर्यजनक घटना हुई: यूएसएस एल्ड्रिज का कथित टेलीपोर्टेशन।

6

चश्मदीद गवाह और गवाहियाँ

प्रत्यक्षदर्शियों ने घटनाओं का एक अवास्तविक क्रम सुनाया, जहां यूएसएस एल्ड्रिज फिलाडेल्फिया में अपनी स्थिति से गायब हो गया और सैकड़ों मील दूर नॉरफ़ॉक, वर्जीनिया में फिर से प्रकट हुआ और कुछ ही देर बाद वहाँ से गायब होकर पुनः फिलाडेल्फिया के समुद्र तट पर प्रकट हो गया। विशाल युद्धपोत के अचानक गायब होने से वहां मौजूद लोगों में भय और अविश्वास की स्थिति उत्पन्न हो गयी।

7

इसी प्रकार की अन्य अद्भुत और रहस्यमयी जानकारी के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें|